REET की न विज्ञप्ति का पता न परीक्षा तिथि का, पहले ही आ गयी विवादों में यहाँ देखें पूरी जानकारी

0
106

शिक्षा मंत्री डोटासरा ने विभाग के साथ की समीक्षा बैठक
रीट में दो की जगह एक पेपर होगा, कॉमर्स के छात्रों को भी मिलेगा मौका

प्रदेश में अभी राजस्‍थान शिक्षक पात्रता परीक्षा (REET) को लेकर ना नियम कायदे तय हुए और ना ही परीक्षा तिथि (Exam Date), लेकिन इससे पहले ही REET LEVEL 1 को लेकर विवाद खड़ा हो गया है। सरकार इस बार REET Level 1 में बीएड(B.Ed) डिग्रीधारियों को शामिल करने की तैयारी कर रही है। पिछले दिनों शिक्षामंत्री (Education Minister) ने भी इस तरह का बयान दिया था। इसके बाद से ही प्रदेश के 3 लाख बीएसटीसी (BSTC/D.El.Ed) डिग्रीधारियों ने REET लेवल वन में बीएड डिग्रीधारियों को शामिल करने का विरोध शुरू कर दिया है। उनका कहना है कि इससे लेवल वन में उनका हक मारा जाएगा। NCTE ने भी ऐसी कोई अनिवार्यता लागू नहीं कर रखी, जिससे सरकार को लेवल वन में बीएड वालों को शामिल करना पड़े। इसके बावजूद सरकार उनके साथ अन्‍याय करने पर तुली है। एनसीटीई की ओर से 28 जून 2018 को जारी अधिसूचना के मुता‍बिक बीएड वालों को लेवल वन में शामिल करने पर विचार किया जा सकता है। साथ ही उनको नियुक्ति के दो साल के भीतर प्राथमिक शिक्षा के लिए एनसीटीई से मान्‍यता प्राप्‍त 6 माह का ब्रिज कोर्स करना होगा ।

यह है दोनों में अंतर :

BSTC वालों का कहना है कि जैसे पूर्व प्राथमिक के लिए केवल एनटीटी डिग्रीधारी ही पात्र होते है। उसी तरह से प्राथमिक वर्ग के लिए BSTC और उच्‍च प्राथमिक के लिए बीएड डिग्रीधारी पात्र है। बीएसटीसी डिग्रीधारी को केवल लेवल वन में ही नौकरी के अवसर प्राप्‍त होते है, जबकि बीएड डिग्रीधारी को REET Level 2 , वरिष्‍ठ अध्‍यापक और व्‍याख्‍याता के रूप में नौकरी के एक से अधिक अवसर प्राप्‍त होते है। इसलिए सरकार को बीएसटीसी वालों के साथ अन्‍याय नही करना चाहिए।


”बार-बार नियमों के बदलने से भर्ती के कोर्ट में अटकनें की संभावना है। इसलिए सरकार को ऐसा निर्णय करना चाहिए, जिससे किसी का अहित नहीं हो। -उपेन यादव, प्रवक्‍ता, राज. बेरोजगार एकीकृत महासंघ”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here